धागा


धागा कमज़ोर हो तो उसे चाहे जितने फेरे घुमा लें वो टूट ही जाता है।


एक कमज़ोर धागा मजबूत से मजबूत परिधान को भी उधेड़ सकता है एक ही पल में।


लोग पोशाक को दोष देते हैं। धागे पर किसी का ध्यान नहीं जाता।


मन का धागा जिससे जुड़ता है ज़रूरी नहीं उसे इस धागे की ज़रूरत हो।


चित्त खुश होता है धागे को अपनी ओर खिंचता देखकर
आखिर एक दिन मुझे इसे तोड़ ही देना है।


टिप्पणी करे

Filed under कविता

जो हम साथ होते


रात को रात में याद नहीं करते 
ठीक उसी तरह दिन को 
दिन में याद नहीं करते ।
दिन की याद आती है 
दिन के बिछड़ने के बाद 
एक दिन
जब मैं बिछड़ जाऊँगी तुमसे 
उस दिन
तुम याद करोगे
कि कितना अच्छा होता
जो हम साथ होते 
काश !
तुम्हें मुझे याद न करना पड़े
जिस तरह मैं तुम्हें याद करती हूँ।

टिप्पणी करे

Filed under कविता

नदी और समुद्र


नदी कभी नहीं मिटा पाती है
खारापन समुद्र का।


नदी की मिठास का
समुद्र को कोई मोल नहीं होता।


नदी जानी जाती है जीवन के लिए
समुद्र अभिशप्त है ज्वार भाटा के लिए।


जल की अलग-अलग प्रवृत्ति को
दर्शाते हैं नदी और समुद्र।


नदी कभी समुद्र नहीं बन सकती
समुद्र नदी से अनभिज्ञ ही रहता है।


1 टिप्पणी

Filed under कविता

मुझे न मालूम !


मैं एक पहेली भर हूँ
जो खुद को ही न समझ आए।
*****
एक मैं वो हूँ
जो आप जानते हैं
एक मैं वो
जो मुझे ही न मालूम।
*****
कभी लगता है
मैं सब ख़त्म कर सकती हूँ
एक ही पल में
कभी ये भी
कि मैं खुद ही खत्म हो रही हूँ।
*****
कभी… मुझे कोई न चाहिए।
*****
कभी मैं किसी को प्रिय नहीं
और कभी
यही सच है,
हाँ… बस यही।
*****
कभी मैं गलत का विरोध करती
कभी मैं घनी चुप्पी हो जाती
कभी मैं प्यार
तो कभी आक्रोश से भरी।
*****
कभी खुद को तलाशती
कभी गुम होती हुई
मुझे न मालूम कौन हूँ मैं।
*****

2 टिप्पणियां

Filed under कविता

इंतज़ार समझते हैं ?


इंतज़ार समझते हैं ?

जब कोई किसी के इंतज़ार में होता है
तो वह और कहीं नहीं होता है।
*****
इंतज़ार की दुनिया में फूलों से लदे कैक्टस
पानी की सतह पर तैरते हैं।
*****
दूर खिला कोई कमल किसी के इंतज़ार में नहीं रहता

लोग उसके इंतज़ार में रहते हैं।
******
जलकुंभी इंतज़ार में कैसे खत्म होती है
फिर उगती है
यह कमल को कभी नहीं मालूम होता।
*****
कैक्टस के फूल झड़ जाते हैं
उन्हें नमी की आदत नहीं।
*****
कैक्टस फिर भी बचाए रखता है हरापन
कहता है सख्त कंटको से
मैं इंतज़ार में हूँ
तुम साथ ही रहना।
*****

1 टिप्पणी

Filed under कविता

दम मारो दम !


अपनी चिलम अपना नशा खुद बनाएँ
ताकि नशे का अनुपात बराबर रहे।
******
नशे की भिन्न प्रजातियाँ हैं
हर नशे के न आप आदी होते हैं
न वो नशा आपका।
*****
नशे की अपनी प्रवृत्तियाँ भी होती हैं।
*****
कभी कोई तेज़ नशा भी आपको हिट नहीं करता
कभी माइल्ड डोज़ भी ओवरडोज़ हो जाती है।
*****
नशे की तासीर ही तय करती है सब।
*****
हर नशा चिलम का मोहताज नहीं होता
हर चिलम भी अपना नशा खुद ही चुनती है।
*****
चिलम से उठते धुँए को नशा न समझ लेना
ये वो फिक्र है जो नशे से बाहर हुई जाती है।
*****
ज़रूरी चिलम भी है और नशा भी
बात ये कि
चिलम किसकी हो और नशा किसका।
*****
चिलम और नशे के बीच सबसे ज़रूरी
आप नहीं आग का होना है।
******

2 टिप्पणियां

Filed under कविता

खिलते हैं गुल यहाँ …!


न चाहते हुए भी आज उसने कहा
तुम जैसा हो जाना चाहती हूँ
याद ही न रहे कि तुम हो कहीं।
*****
उसके पास सबके लिए वक्त था
सिवाय उसके
जो अपना सारा वक्त
उसके नाम किए बैठी रही।
*****
कभी-कभी वो पूछती
याद आती है मेरी ?
जवाब आता
बेहद ।
फिर वो कुछ न पूछ पाती ।
*****
किसी रूमानी शाम में वो सोचती
छोड़ो जाने दो उदास नहीं होना है
ठंडी हवा उसे उदास चादर ओढ़ा जाती।
*****
उसकी मुस्कान संक्रामक थी।
वो देख रही थी खुद को बर्बाद होते
एक दिन वो पूरी ख़त्म हो गई।
*****
वो हर बार सोचती कि अब इंतज़ार न करेगी
फिर थोड़ी ही देर में मैसेज भेजती
और खुश हो जाती
क्योंकि रिप्लाय ज़रूर आता।
*****
उसकी सारी शिकायतें धरी रह जातीं
वो सिर्फ अपना हाल बताता
वो नम आँखों से मुस्कुराती रहती।
*****
जब उसने सोचा वो कभी न पूछेगी
कि वो कुछ भी है उसके जीवन में
तभी उसके मन ने कहा
जो सच है उसे स्वीकार कर लो।
*****
प्यार करने वाला बेहद तन्हा होता है
उसके पास उसका मन तक नहीं रहता।
*****

टिप्पणी करे

Filed under कविता

बसंत की सुबह !


सजीव और निर्जीव को
साथ-साथ देखना कैसा होता है
कभी दोनों एक से प्रतीत होते हैं।

जैसे अभी तेज़ हवा चल रही है
और बैलक्नी में पौधों के साथ ही
झूला,विंडचाइम लगभग उसी गति से झूम रहे हैं
जैसे कि पौधे।

गमलों के पौधों की पत्तियाँ
खुद को पौधे के तने के साथ
मजबूती से संभाले जा रही हैं।

फूल हैं जो कि हवा की लहरों के साथ झूमे जा रहे हैं। फूलों को परवाह नहीं कि वे बचेंगे
या शाख से दूर हो जाएँगे।

एक कमज़ोर फूल बैलक्नी की फर्श पर गिर गया है
वो अब उसी दिशा में घिसट रहा है
जिधर हवा उसे घुमा दे रही है।

गमले के बाकी फूल इन सबसे बेपरवाह
अभी भी झूमे जा रहे हैं।

हर पौधे में हवा के वेग को सहने की
अलग क्षमता होती है।

पौधों और हवा का साथ बड़ा गहरा है
हवा न हो तो पौधे उदास हो जाते हैं।

उदास पौधों के लिए हवा ख़ुराक है।
कभी-कभी हवा इतनी अधिक होती है
कि पौधे सहम जाते हैं।

पौधे हवा से कभी नहीं पूछ पाते
कि वो उनसे कितना प्रेम करती है।

पौधे ये ज़रूर सोचते हैं
कि उनसे क्या भूल हुई
जो हवा ने ही उन्हें झकझोर दिया।

कभी हवा के साथ पौधों को
ख़ुशी में झूमते हुआ देखा है
और कभी हवा के वेग से घबराए हुए भी।

हवा पौधों को तैयार कर रही होती है
अदृश्य आकस्मिक घटना से सुरक्षा के लिए।

कहीं दूर किसी पक्षी की मोहक आवाज़
सुनाई दे रही है।
दूर उड़ते हुए पक्षी को देखकर जी चाहता है कि काश कभी वो पास आ सके।

अभी-अभी हवा की गति कुछ कम हुई है।
अब सारे पौधे हल्की ठण्ड से
कपकपाते हुए दिख रहे है।

पौधों का हिलना सुंदर है।
रुकी हुई चीज़ें पुराने को दोहराती हुई होती हैं।

पौधों का हिलना सजीवता के लिए ज़रूरी है
और सजीवता के लिए हवा का चलना !

टिप्पणी करे

Filed under कविता

यात्रा !


यात्रा कितनी भी कर ली जाए
बहुत कुछ छूट ही जाता है।

सफ़र पर
सब जल्दी में रहते हैं
गंतव्य तक
थक चुके होते हैं।

उसने कहा
वह सफ़र पर है
वह इंतज़ार में रही
कि सफ़र कब खत्म हो।

मुझे यात्राएँ पसंद हैं लेकिन
यात्राएँ मुझे थका देती हैं।

यात्रा में लोगों के साथ
कोई वह भी होता है
जो वहाँ नहीं होता है।

बड़ी यात्रा पर निकलने से पूर्व
छोटी यात्राएँ ज़रूर करनी चाहिएँ।

यात्राएँ बहुत कुछ देती हैं
यात्राएँ बहुत कुछ ले भी लेती हैं।

मैं अपनी पर यात्रा अकेले हूँ
लेकिन यात्रा में बहुत लोग हैं।

लोगों में और यात्रा में गहरा संबंध होता है।

यात्रा के अनेक पड़ाव होते हैं
कुछ अच्छे,कुछ ठीक तो कुछ बेहद बुरे।

पड़ाव न हों तो यात्री थकान से भर जाएँगे।

पड़ाव यात्रा के चलते रहने के लिए आवश्यक हैं।

कभी-कभी अप्रत्याशित पड़ाव
यात्रा को बाधित कर देते हैं।

कुछ लोग आपको धकेल कर
यात्रा में आगे भागते हैं
आप उन्हें सर उठा कर देखते हैं।

अक्सर सहयात्रियों को लोग याद नहीं रखते
आखिर क्या-क्या याद रखा जाए।

यात्रा लंबी हो या छोटी
समतल कभी नहीं होती है।

कुछ नदियाँ लंबी यात्रा की भागीदार होती हैं।

कुछ पेड़ स्वयं चुनते हैं
अपने मार्ग और यात्रा को।

यात्रा सदैव “यात्रीगण कृपया ध्यान दें”
कहकर सचेत नहीं करती
यात्रा में सचेत रहना पड़ता है।

हवा,पानी,व्यक्ति और शब्द निरंतर यात्रा में रहते हैं।

शब्दों की यात्रा सहयात्रियों के लिए खुराक है।

3 टिप्पणियां

Filed under कविता

चिड़िया को नहीं मालूम !


चिड़िया को नहीं मालूम
कोई रख देता है दाने उसके इंतज़ार में
चिड़िया आती है और उसे चुगते हुए देखकर
खुश होता है कोई।
*****
चिड़िया उसकी भाषा नहीं जानती लेकिन
वो चिड़िया से रोज़ बात करती है
कि तुम यूँ ही आती रहना
तुमसे मेरे जीवन में गहरी खुशी बसती है।
*****
क्या चिड़िया कभी सोचती होगी
ये दाना मैं रोज़ खत्म कर देती हूँ
ये दाना रोज़ कैसे आ जाता है।
*****
कितना अच्छा होता जो एक दिन
चिड़िया बता पाती
कि सब समझती हूँ
तभी हर दिन आ जाती हूँ।
*****
कोई है जो मेरे इंतज़ार में है
और मैं उसे बेहद प्यार करती हूँ।
***** 

2 टिप्पणियां

Filed under कविता