caption

Follow my writings on http://www.yourquote.in/indu-singh-hju/quotes/ #yourquote

टिप्पणी करे

Filed under कविता

आसान नहीं होता


मर जाना सबसे आसान है
लोग कहते हैं
लेकिन  

मरने की
चाह रखना
भले आसान हो
मर जाना

कतई आसान नहीं होता ।
कैसे मरुँ
कि कष्ट भी कम हो
और मर जाऊँ !
ज़रा सोचिये
ये मनःस्थिति
कैसे

मर पाता होगा कोई
वो घुटन वो दर्द

वो तकलीफ़
हर कोई नहीं सह सकता
मर जाना, आसान
कतई नहीं होता ….

3 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

सफ़र …


काश ! ज़िंदगी
सुपरफास्ट ट्रेन सी होती
वातानुकूलित
शयनकक्ष में बैठाकर
पँहुचा देती
गंतव्य तक
यात्रा
कितनी आरामदायक होती
थोड़ा विलंब
शायद वहाँ भी होता
किंतु
इतना तो नहीं ….
मालगाड़ी सी ज़िंदगी
कोयले से भरी
तपती है धूप में
जलती है
भीगती है
सूखती है
उछलती है
गिरती है फिर भी
ख़त्म नहीं होती
बड़ा लंबा सफ़र
तय करना होता है ….!!!

7 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

ए एन 32


तुम्हारा कुछ पता नहीं
कहाँ हो ? कैसे जानें
ज़िंदगी की नई शुरुआत
तुम्हीं से थी
पिछले सत्रह वर्षों से
एक दिन भी न गुज़रा
तुम्हारे बगैर
लगातार सालों साल
हम साथ गए समंदर पार
और देश के सभी कोनों से लेकर
विदेश यात्रा तक
कभी डर न लगा
लेकिन आज
जब तुम्हारी कोई ख़बर नहीं मिल रही
डर रहा हूँ
किसी अनहोनी से
तुम लौट आओ सकुशल
कि देश को ज़रुरत है तुम्हारी
कई परिवार
राह तक रहे
उनकी रौशनी भी
तुम्हारे साथ है
मुझे, नींद नहीं आती आजकल
कि बिन तुम्हारे
फ़ैल गया है सन्नाटा
एक सैनिक की ज़िंदगी में ।

 

 

 

 

 

1 टिप्पणी

Filed under कविता

जलन !!


गर्म वैक्स की पट्टियाँ
लगाते , खींचते
वो हँस रही थी
नहीं हो रहा था
उसे कोई दर्द
गर्म वैक्स की पट्टियों का
घर था उसका
सब की सब
चिपकी थीं उसके जिस्म पर !

 

2 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

तिराहा


तिराहे को
परिभाषित करती हुई
शेष जगह पर
उतरते हैं झुंड के झुंड
कबूतर
जिन्हें मिल जाता है
बिन प्रयास
अच्छा स्वादिष्ट दाना
वहाँ पर
सुबह – शाम लोग दिख जायेंगे
कबूतरों को दाना
चुगाते हुए ।
उसी जगह के दोनों या तीनो
कोनों पर बैठे रहते हैं
दाना बेचने वाले
अलग – अलग रेट के हिसाब से
प्लेटों में सजा हुआ दाना
खुला ही रखा रहता है
लेकिन
कोई भी कबूतर
नहीं खाता
उनकी प्लेट से एक भी दाना
जब तक कि कोई उन्हें खरीद कर
उसे कबूतरों के नाम न कर दे
और हम ?
अपनों से ज़्यादा
होती नज़र
दूसरों की प्लेट पर
नाहक , नाजायज़
सब स्वीकार है
बल्कि माहिर हैं ,छीन कर लेने में
हाँ ! भला  
कबूतरों से
कैसी बराबरी …!!!

पढना जारी रखे

4 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

मेढकी


पास के पोखर में
उछलतीकूदती
दिख जाती थी अक्सर ही
कि इक रोज़
जम के बारिश हुई
चारों तरफ़ जल ही जल
बह गई वो
उसी जल के साथ
एक नए प्रपात में
बारिश थमी
जलस्तर घटा
और घट गया वो प्रपात भी
वो तो
पोखर भी था
खेल के लिए
उसे ले आया था कोई
हांडी में भरकर
भरी हांडी में चढ़ी थी
जलते चूल्हे पर अब वो
गर्म होते पानी में कूदती रही
करती रही खुद को
हांडी में संतुलित
तापमान बढ़ता रहा
जलस्तर घटता रहा
मेढकी कूदती रही
बिठाती रही सामंजस्य
कि हांडी ठंडी होगी
और बचा रहेगा उसका ये घर
हांडी अब उबाल पर थी
मेढकी थक चुकी थी
निकल जाना चाहती थी बाहर
लेकिन !
शेष थी ताकत
शेष था पानी ….!!!

 

 

 

 

 

13 टिप्पणियाँ

Filed under कविता