फिर दिल आज कहने लगा है


फिर दिल आज
कहने लगा है
फ़िज़ा है हसीँ
मौसम बदलने लगा है
हर मुस्कुराहट पे
तेरा रूप खिला है
मुद्दतों बाद बागीचे में
इक फूल खिला है
एक अहसास तेरा
ताज़गी की बेला है
क्यूँ दिल मेरा
फिर से कहने लगा है
फ़िज़ा है हसीं….मौसम बदलने लगा है !

Advertisements

1 टिप्पणी

Filed under कविता

One response to “फिर दिल आज कहने लगा है

  1. mukta

    after reading this i felt …. yeh ek yatharth sach hai jo saayd hamare saath bhi hoga jab hamare bacche hame chor kar chale jayege.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s