याद है हमें


याद है हमें वो गुज़रा हुआ कल
वो हँसना वो खोना,
इक दूजे की बातों में
याद है हमें…
वो खिलखिलाहट ,

वो चुलबुलाहट और शरारतें सारी 

जो की तुम्हारे साथ

याद है हमें…

वो पाना बार-बार तुम्हें
और,संभालना बार-बार
न जाने कितनी पलकों
से छुप कर
देखना बार-बार
याद है हमें…
आज फिर मिले हैं हम
कल की तरह
वो ख़ामोश निगाहों का अफ़साना
याद है हमें…
तुम याद रखना ये
इल्तज़ा है बस,
और तुम्हें याद रखना
याद है हमें…

Advertisements

4 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

4 responses to “याद है हमें

  1. nice one…!!!! I like it…
    it has a lot of feeling in it…..

    I have also written some small poems both in hindi and english…
    you can have a look sometime 🙂

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s