मन की उड़ान


कभी साथ पाने को
तड़पे ये मन
जब साथ हो फिर,
क्यूँ एकांत चाहे मन
मन की चाहत और
मन की भाषा,
न समझ आई कभी
अजब ये जिज्ञासा।
कभी पल में उड़ना व
गगन छूने की चाह,
कभी ज़मीं पे गिरना
व समाने की चाह
कभी भीड़ में खुद को
पाने की चाह
कभी यूँ तन्हा सब
भुला देने की चाह
जाने कितनी उलझनों में
घिरता ये मन
गिरता,उठता,संभलता ये मन
हर पल एक नयी उड़ान
है भरता ये मन…

Advertisements

22 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

22 responses to “मन की उड़ान

  1. चंचल मन कभी नहीं सुनता, चंचलता इसकी समझ के परे है|

  2. rajtela1

    392—62-03-11

    मन निर्मल

    मन शीतल

    मन निश्चल

    मन पावन

    मन हंसता

    मन रोता

    मन सोचता

    मन कहता

    मन स्वच्छंद

    मन चंचल

    मन भावुक

    मन अधीर

    मन कभी चुप

    न रहता

    ना कभी ठहरता

    कुछ न कुछ

    करता रहता

    मन तो मन है

    निरंतर

    चलता रहता

    09—03-2011

    डा.राजेंद्र तेला“निरंतर“,अजमेर

  3. कविता दिल की आवाज होती है जो स्वतः ही कागज पर उतरने को उतावली रहती है हम उसे आवाज देने भर का काम करते हैं | बहुत सुंदर रचना ! हार्दिक बधाई |

  4. Now, that I have subscribed to your posts, I’m never going to miss it. 🙂
    From yesterday, even my heart is flying, very nice weather here. Amazing, you’ve weaved such fantastic words…

  5. देखा! ब्लौग अब पहले से ज्यादा आकर्षक बन गया है और अक्षर भी बड़े दिख रहे हैं.
    हैडर में जो चित्र लगा है उसे भी बार-बार बदल सकते हैं. उसका तरीका है Dashboard से Appearance के अंदर Header में जाइये और हर बार Random header image के लिए क्लिक करके सेव कर दीजिये. आपको हर बार तीन हैडर इमेज में से अलग-अलग इमेज हैडर में दिखेगी.
    यह कविता भी सुन्दर है. मन की उड़ान ऐसी ही होती है.

  6. मन का क्या, थकता ही नहीं, बैठता ही नहीं। इसके बराबर चंचल कोई पक्षी न देखा!

  7. प्रवीण पाण्डेय

    न जाने क्यों, हमने भी मन पर ही लिखा है। मन की उड़ान समझना कठिन है।

  8. आपका ब्लॉग देखा. अच्छा लगा. कविता बहुत प्यारी है. मन की उड़ान सी…

  9. स्वतन्त्रता दिवस की शुभ कामनाएँ।

    कल 16/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

  10. चंचल मन को उड़ने दो … गिरता पड़ता स्वयं ही मंजिल पा लेगा .. सुन्दर प्रस्तुति

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s