हमारी शान भारत


हम हैं इसकी जान हमारी
जान है भारत
हम हैं इसकी ही अमानत
चाँद है भारत
संग मिलकर रहने की
परिभाषा है भारत
माफ करने की अदा का
रूप है भारत
सारे मौसम यहाँ ही बसते
क्या खूब है भारत
हमको ही तो है मिला
प्यारा ये भारत
आओ मिलकर सारे गाएँ
न्यारा है भारत
रखना ध्यान सदा हमारी
आन है भारत
हम हैं इसकी जान हमारी
जान है भारत…

28 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

28 responses to “हमारी शान भारत

  1. प्रवीण पाण्डेय

    यही जज्बा बना रहे।

  2. बहुत सुन्दर कविता इंदु जी, स्वंतत्रता दिवस की शुभकामनायें

  3. स्वंतत्रता दिवस की शुभकामनायें। आप की लेखनी में गज़ब का सम्मोहन है।

  4. सुन्दर अभिव्यक्ति ….
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ….

  5. मुझे अपकी कविता पढ कर अच्छा लगा…………….
    happy independence day indu ji

  6. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ !!

  7. आप सभी को भी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ ……

  8. Good peom,, specially in hindi makes it more Indian..
    Jai Bharat, Akhand Bharat

  9. Ati Uttam… Kaash is poem ko padhake hum politicians ko jaga sakte…

  10. जब एक इंसान का स्तर अच्छा होगा, तो उसके परिवार का स्तर अच्छा होगा
    जब परिवारों का स्तर अच्छा होगा, तब समाज का स्तर अच्छा होगा
    जब समाज का स्तर अच्छा होगा, जब देश का स्तर अच्छा होगा…

    …आओ एक अच्छा इंसान बननें की कोशिश करें
    देश का स्तर अपने आप अच्छा हो जाएगा!!

    -Sash

  11. Kavita bahut sundar hai, Bharat ko sundar banane mein samay lagega, koshish jaari hai…..well done!

  12. बहुत ही अच्छी कविता है . बहुत प्रसन्न हुआ. भारत के विषय पर जो भी लिखते हैं उनको मेरे तरफ से एक बहुत बड़ा सलाम

  13. अति सुन्दर ! गर्व से कहो मेरा भारत महान !
    सरस

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s