भाई के लिये


यूँ तो आते हो याद रोज़ ही
परंतु आज का दिन खास है,
याद करने के लिये
कभी लड़ते-झगड़ते बीतता था दिन
आज उन यादों को सहेजते हैं हम
तब ना पसंद था सजना-सँवरना
आज तैयार हो,इंतज़ार करते हैं।
खुश रहो सदा है यही आरज़ू
भईया मेरे हम और क्या दें
है प्यार असीम,इस दिल में भरा
कभी आओ इस दिन हमारे पास भी ज़रा…

रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ हमारे उन भाईयों के लिये जो देश की सेवा हेतु
भारतीय सेना में हैं जिन्हें राखी बाँधे हुए वक्त गुज़र गया…
आपकी बहन
इंदु

13 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

13 responses to “भाई के लिये

  1. प्रवीण पाण्डेय

    स्नेहिल सम्बन्ध की अनुपम अभिव्यक्ति।

  2. Very sweet Saru ….I like it very much……..
    HAPPY RAKSHA BANDHAN
    tke care

  3. इंदु जी
    सादर अभिवादन !

    रक्षाबंधन पर बहुत सुंदर मन के सच्चे भावों की रचना लिखी है आपने
    खुश रहो सदा है यही आरज़ू
    भईया मेरे
    हम और क्या दें
    है प्यार असीम,इस दिल में भरा
    कभी आओ इस दिन हमारे पास भी ज़रा…

    आपकी भावनाओं को नमन !
    हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !


    रक्षाबंधन एवं स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

  4. रक्षाबंधन पर सुन्दर अभिव्यक्ति ….
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

  5. very nice . i love this .
    happy raksha bandhan ……….!
    desh ke jawano ko salam .

  6. alok

    bhai bhi karte hain yad bahan ko!
    jajbaton ko apne bayn kar pate nahin,
    dil me hai aseem pyar par
    dil ki bat juban par late nahin

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s