तुम्ही हो मेरा जीवन


तुम्ही हो मेरा जीवन
तु्म्हारे लिए तन-मन
करे इंतज़ार सदा तेरा प्यार
लाए खुशियाँ ढेर मेरे मन में
जाऊँ वार-वार करूं तुझसे प्यार
है ऐतबार तुझमें
करके श्रंगार मन में है प्यार
सब वार दूं मैं तुझपे
कुमुकुम तरंग,मेंहदीं का रंग
फैली है सुगंध मन में
पूजूं चाँद संग तुझे मैं अखण्ड
तेरी साँसों में हर सिंगार
लूं लाख जन्म चाहूँ तेरा संग
न और कुछ जीवन मे
तुम्ही हो मेरा जीवन
तु्म्हारे लिए तन-मन…

करवा चौथ की ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ…

16 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

16 responses to “तुम्ही हो मेरा जीवन

  1. संग रहे तो जीवन, जीवन,
    नहीं शिथिल एक त्यक्त भाव सा…

  2. dil se likhaa hai aapne
    indujee,main bhee kuchh jodne kee dhrashttaa kar rahaa hoon
    अर्पण किया है
    तन मन तुम को
    जियूं अब तुम्हारे लिए
    बस यही आरजू है

  3. बहुत सुंदर कविता है सच में ! ये G.One कहीं Ra.One ka promotion तो नहीं 🙂

    व्यंजन नये नित सृजन करूँ
    तुम खूब खाओ नमन करूँ
    सेहत तुम्हारी फिट रहे
    फिर में जियूँ या ना जियूँ…

  4. वाह … वाह ! जीवन साथी हो तो ऐसी हो | जीवन साथी की योग्य व्याख्या व्यक्त हुई है आपकी कविता मे | बधाई हो और बहोत सारी शुभकामनाएँ |

  5. very touching- wishes to u on karwachauth[sorry if i misspelt it in english]

  6. लूं लाख जन्म चाहूँ तेरा संग
    न और कुछ जीवन मे
    तुम्ही हो मेरा जीवन…..खूब सूरत अभिव्यक्ति सुंदर भावों के साथ ..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s