बचपन की याद


कितना खूबसूरत,अल्हड़ सा बचपन
कंचे की चट-चट में बीता वो दिन
जीत की खुशी कभी हार का गम
रंगबिरंगे कंचों में घूमता बचपन।
गिल्ली डंडे का है आज मैदान जमा
किसकी कितनी दूर,है यही शोर मचा
डंडे पे उछली गिल्ली कर रही है नाच
दूर कहीं गिरती,आ जाती कभी हाथ
भागते हैं कदम कितने बच्चों के साथ
गिल्ली डंडे में बीता है बचपन का राग।
कभी बित्ती से खेलते कभी मिट्टी का घर
पानी पे रेंगती वो बित्ती की तरंग
भर जाती थी बचपन में कितनी उमंग।
कुलेड़ों को भिगोकर तराजू हैं बनाए
तौल के लिये खील-खिलौने ले आए
सुबह-सुबह उठकर दिये बीनने की होड़
लगता था बचपन है,बस भाग दौड़
सारे खेलों में ऊपर रहा गिट्टी फोड़
सात-सात गिट्टियाँ क्या खूब हैं जमाई
याद कर उन्हें आँख क्यूं भर आई।
हाँ घर-घर भी खेला सब दोस्तों के साथ
एक ही घर में सब करते थे वास
हाथ के गुट्टों में उछला,वो मासूम बचपन
दिल चाहे फिर लौट आए वो मधुबन
तुझ सा न कोई और दूसरा जीवन
कितना खूबसूरत,अल्हड़ सा बचपन…

Advertisements

23 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

23 responses to “बचपन की याद

  1. लगता था बचपन है,बस भाग दौड़ :))
    Apratim rachna…..Nostalgic one

  2. Alpesh Arya

    सुन्दर
    वही मासूमियत फिर से लेकर आ जावो फिर से वही बचपन आ जायेगा

  3. khoob gittiyaan jamaayee hai bachpan mein aapne
    bachpan kabhee naa bhoolnaa is umr mein bhee kabhee kabhee bachpanaa karte rahnaa

  4. पोस्ट पढ़ कर बचपन चमका एकबारगी। पर कुछ ही क्षणों में बुझ गया उम्र के वजन तले! 😦

  5. vadan

    Nice poem
    I hope u have red, Javed Akhtar’s Tarkash’ poem about childhoold
    ” Mujko yakin hein ammi sach kahti thi, mere bachpan ke din mein chand mein pariyaa rahti thi”
    Watch live on:

    regds
    vadan

  6. wah bahut khoob bachpan ,
    har bar mangte hai ek bachpan ,
    jawani to aa gayi ,
    budhapa bhi aayega ……..
    .par kabhi nahi jayega
    hamse door ,
    hamara bachpan .
    indu ji sunder bachpan . badhai . …… 🙂

    http/sapne-shashi.blogspot.com

  7. आपकी कविता पढ़कर अपना बचपन याद आ गया ,
    वाकई फिर से बच्चा होनेको मन ललचाया |
    सुन्दर कविता के लिए बधाई | धन्यवाद |

  8. Really went back to my childhood days after going through the poem. Beautifully written!!

  9. jeeti hoon aaj main apna bachpan apne bachoo ke saath
    par kahi kuch kami hain
    na hain woh pani main kishtiyaan, aur na woh mitti ke bartan,
    video games ke jamaane main
    nahi hain un dino ki masoomiyat saath

    Thanks for reminding us what we had was so good and so beautiful..am living my childhood again through my precious bundles of joy

  10. as always …superb 🙂
    after reading your poem my heart says…
    एक बार औरी तनी औतः बचपनवा ……

  11. every time i read your poetry, i makes me feel i should have paid more attention in my hindi language class…you write very well

  12. Hi Indu
    Did you played all these games – kanche, gilli dande …? Possibly not! Still you write. Jahan na pahuche ravi, waha pahunche kavi!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s