ये हुआ क्या…


न आँधी है कोई,
न ही हवाएँ हैं तेज़
हल्की सी सरसराहट
साथ उड़ा ले गई।

न हुई बारिश कहीं
न बादल ही घिरे
नमी थी ज़रा सी
संग बहा ले गई।

न सर पे हाँथ था कोई
न बाँहो में जकड़ा कोई
फिर भी आत्मा कहीं
गहरे समा ही गई।

न तो शोरगुल था
न घिरी थी ख़ामोशी
तन्हाइयाँ थीं फैली मगर
रूह को हँसा ही गई।

न सोए थे गहरी नींद में
न कोशिश थी जगने की
फिर कैसी जगी आरज़ू
कलम चला ही गई।

24 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

24 responses to “ये हुआ क्या…

  1. न सर पे हाँथ था कोई
    न बाँहो में जकड़ा कोई
    फिर भी आत्मा कहीं
    गहरे समा ही गई।……………waah sunder rachna indu ji ……..har line kuch kahati si ………..jadoo jagati aur samati bhi ……kalam chupke se kuch batati si ……………….:))))))))))) badhai .

  2. प्रवीण पाण्डेय

    अंधेरों में भी जी लेने का हुनर सीखना होता है।

  3. BALBIR SINGH KALSI

    kisi rachna me kuch 2-4 lines aisi hoti hai jinko highlight kiya ja sakta hai………………………………………………………………………………………………………………par jab poori rachna hi highlight ho toh kya kahe’n.
    bahut badhia.indu ji…….

  4. अनुपम भाव संयोजन लिए हुए उत्‍कृष्‍ट लेखन
    कल 21/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    … मुझे विश्‍वास है …

  5. संजय भास्कर

    आज आपके ब्लॉग पर बहुत दिनों बाद आना हुआ. अल्प कालीन व्यस्तता के चलते मैं चाह कर भी आपकी रचनाएँ नहीं पढ़ पाया. व्यस्तता अभी बनी हुई है लेकिन मात्रा कम हो गयी है…:-)
    …..बहुत खूब…बेहतरीन प्रस्तुति…बेहतरीन कविता

  6. यह तो नियति की इच्छा थी ,
    आपसे अच्छी निर्मिती हो गयी | धन्यवाद |

  7. saras darbari

    बस ऐसे ही लम्हों की कारीगरी है …की दोस्त आपको सबका बना ले गयी

  8. “न हुई बारिश कहीं
    न बादल ही घिरे
    नमी थी ज़रा सी
    संग बहा ले गई।”
    बहुत ही खूबसूरत भाव ! प्रवाह लिए सुंदर अभिव्यक्ति !

  9. न हुई बारिश कहीं
    न बादल ही घिरे
    नमी थी ज़रा सी
    संग बहा ले गई।

    बहुत अच्छी पंक्तियाँ। बहुत खूबसूरत अंदाज़। इसी तरह लिखती रहें आप, हमेशा।

  10. bhargav

    na soye the gehri neend me…

    induji, as usual awesome… touched me…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s