आने को हैं साँसें नई


हवा थी तेज़ बहुत, और बेचैन था वृक्ष
करवट ली मौसम ने और वो हिल गया ।

थे परेशां सब,खुशनुमा पवन के लिए जब
हुआ ऐसा क्या,पत्ता शाख से चिपक गया ।

दो बड़ी शाखों के ठीक जुड़ने के बीचोंबीच
था किसी पक्षी ने घोसले को जन्म दिया ।

नया ही था वो घर,नव जीवन के लिए
शाख से सिमट, था पत्तों ने घेरा किया ।

कह उठा वृक्ष भी ज़रा हौले से डोल हवा
आने को हैं साँसें नई,दे इन्हें जीवन नया ।

Advertisements

21 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

21 responses to “आने को हैं साँसें नई

  1. Very nice…………..
    Pavan kahate hai sabekuch udha le jati hai our app ne to pavan ke mane badaldiye sunder………..
    थे परेशां सब,खुशनुमा पवन के लिए जब
    हुआ ऐसा क्या,पत्ता शाख से चिपक गया

  2. बहुत उत्तम ,पढ़ कर आन्दित हुआ
    यूँ ही खिलने दो
    कविता की कोपलें नयी
    महकने दो विचारों के फूल

  3. भावमय करते शब्‍दों का संगम …बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

  4. यशवन्त माथुर

    नया ही था वो घर,नव जीवन के लिए
    शाख से सिमट, था पत्तों ने घेरा किया ।

    बहुत ही बढ़िया

    सादर

  5. नया ही था वो घर,नव जीवन के लिए
    शाख से सिमट, था पत्तों ने घेरा किया ।

    सुंदर भाव इन्दु जी

  6. “किसी पक्षी ने घोसले को जन्म दिया ।”
    Amazing thoughts! what a use of words!

  7. संजय कुमार

    नया ही था वो घर,नव जीवन के लिए
    शाख से सिमट, था पत्तों ने घेरा किया ।
    …..सुन्दर रचना

  8. सुन्दर रचना इन्दु जी
    Liked your blog bookmarking it.

  9. Very nice, I loved your poems!!!
    main bhi kabhi kabhi hasyaras aur vyangya pe adhaarit kavitayeein likhta hu, padhiyega 🙂 http://beingdesh.com/category/india/hindi/

  10. थे परेशां सब,खुशनुमा पवन के लिए जब
    हुआ ऐसा क्या,पत्ता शाख से चिपक गया…

    बेहतरीन शेर…

  11. आने को हैं साँसें नई,दे इन्हें जीवन नया…..

    beautiful

  12. anju(anu)

    तुझ से एक दर्द का रिश्ता हैं …..पर साथ तो निभाना हैं ….सादर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s