यथार्थ या भ्रम !


तुम थे कि भ्रम था
भ्रम था कि तुम थे
अब न तुम ,न भ्रम
पर कुछ है जो
अब भी है
सत्य है
यथार्थ है
यही सोचते हैं हम ।
फिर न ख़ुशी कोई
है सिर्फ ग़म
ख़्वाबों की टूटी
आवाज़ हो तुम
हो आइना या जल
कितनी उधेड़बुन
छोड़ो सताना अब ,कह भी दो
हाँ ! हूँ मै तुम्हारा जीवन ।
हूँ यथार्थ या भ्रम
समझ न पाओगे तुम ….

12 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

12 responses to “यथार्थ या भ्रम !

  1. rajtela1

    yathaarth bhee bhram hai,kisne kis drishti se dekhaa bhee to jaannaa mahatv poorn hai…sabke apne apne paimaane ….koi dekhtaa gilaas aadhaa bharaa koi dekhtaa gilaas aadhaa khaali…
    sundar khyaal…man ko sochne ke liye mazboor kartee rachnaa…sneh aur aashirvaad ke saath…..

  2. हाँ ! हूँ मै तुम्हारा जीवन ।
    हूँ यथार्थ या भ्रम
    समझ न पाओगे तुम ….
    बहुत खूब

  3. Ankit Solanki

    beautifully reflected the emotion of confused soul…like it 🙂

  4. बड़ी अजीब सी उधेड़बुन हो जाती है जब जीवन को जीया नहीं जाता उसका विश्लेषण होने लगता है…खासकर औढे हुये/अपनाये हुये रिश्तों का….साँसे जीवन है तब तक ही जब तक वे सहज घटित होती रहती है, जहाँ उनकी गणना शुरू हो जाति है वहीँ से उपद्रव की शुरूआत ….यथार्थ और भ्रम के प्रश्न इतने सापेक्ष हैं कि खोजने पर शायद उत्तर ना मिले और सहज में यदि उत्तर घटित हो जाये तो बचता है ना ही यथार्थ…. ना ही भ्रम…अच्छा लगा रचना को पढ़ना, सोचना, समझना और यह टिपण्णी करना.

  5. suneel yamdagni

    ख़्वाबों की टूटी
    आवाज़ हो तुम…..रिश्तों को ढूँढती ..सुंदर भाव से भरी रचना इंदु जी

  6. anju( anu)

    भ्रम का टूटना ही जरुरी है

  7. इंदु जी ढेर सारा साधुवाद और आशीष! बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति! ईश्वर तुम्हें उत्तरोत्तर सत्य का मार्ग दिखता रहे!
    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’

  8. Vandana Grover

    अब न तुम ,न भ्रम
    पर कुछ है जो
    अब भी है….
    बहुत सीधा सरल और सहज ढंग …पर प्रभावी …

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s