झूठ !!!


सब कहते हैं
बड़े प्यार से
आराम से
आहिस्ता-आहिस्ता
जी जाता हूँ मैं
उछल जाता हूँ मैं
मेरे बिन कोई रह
नहीं पाता
मेरे बिन सब बेरंग।
हर दिल में
हर शख्स में
वास है मेरा
पूरा का पूरा समाज
साम्राज्य है मेरा।
हाँ ! मुझे सरे आम नहीं पुकारते
आखिर
शर्मो – हया
अदा है मेरी
प्रणय-मिलन कब
सरे आम हुआ है
चुम्बन तक तो
सामजिक उल्लंघन है
फिर भी हो जाता है उजागर
कभी -कभी।
ठीक वैसे ही रखते हैं सब
मुझे संभालकर
न देखे कोई न सुने कोई
बस जज़्ब हो जाता हूँ
सभी के अन्दर
दिख भी जाता हूँ
कभी -कभी लेकिन।
बड़ा शर्मीला हूँ
लजाता हूँ नैन मिलाते
हुए प्रियतम से
मिलता हूँ अक्सर ही
रात के किसी पहर में
जब ‘मैं’ और ‘वो’
हो जाते हैं हम
तब
दिन के उजाले में
एक जिस्म-एक जान
ही नज़र आते हैं हम।
मुझसा कोई महबूब नहीं
इस जहाँ में
मैं रह भी लूँ
न रह सकोगे तुम
मेरे बिना
लाख कर लो कोशिश
या लाख पालो भरम
मैं ही हूँ तुम्हारा
सिर्फ तुम्हारा हमदम।

9 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

9 responses to “झूठ !!!

  1. बहुत खूब लिखा आपने गहन अभिव्यक्ति विचारों की | साधू |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://www.tamasha-e-zindagi.blogspot.in
    http://www.facebook.com/tamashaezindagi

  2. Nazmaa

    Well crafted with feelings woven meticulously, loved to read.

  3. दम्भ झूठ सब, प्रेम सदा बिन शब्द प्रवाहित ।

  4. suneel

    इस सुंदर झूठ में छुपी मोहब्बत .. अपने हमबदन की …………………अति सुंदर रचना

  5. बहुत खूब…. मान को छू लेने वाली बात कही है

  6. आपने लिखा….
    हमने पढ़ा….
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 01/06/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ….
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

  7. loved it…
    sarcasm that you employed here.. is commendable
    very well written Mam… 🙂

  8. यही है सत्य युगों-युगोंसे | सुंदर प्रस्तुती |

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s