सुर्ख औरत !


गर्म तंदूर या सुर्ख अंगारों पर
बनाए जाते हैं
स्वादिष्ट टिक्के
औरत की खूबसूरती का
राज़ भी यही
सेंकती है खुद को हर दिन
तपती है जलती है
और हो जाती है सुर्ख
अपनी तपिश में खुद को पकाकर
करती है पेश
समाज को
एक सभ्य सम्पूर्ण औरत
कि सभी को पसंद आती है
ख़ामोश…. सुर्ख….. दमकती औरत !

Advertisements

11 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

11 responses to “सुर्ख औरत !

  1. Hello.. come here after a long long time ..

    the state of women in our great nation, I hope and wish it changes , we need to go far far yet ..

    Ro ro joon handaavaa
    Mere sukh na likhiya bhaag
    Ve loko .. Main naari Hindustan di

    Sadiyaan ton main luti jaandi
    Kaun sune fariyaad
    Ve loko .. Main naari Hindustan di

    Aje nilami hundi meri -Main wikdi which mandi
    Meri zaat  dmaram na mera- Main khote di randi
    Mere paireen haje zanjeeraan – Bhaven desh azaad
    Ve loko .. Main naari Hindustan di

  2. अनाम

    बेहतरीन अभिव्यक्ति

  3. anju choudhary (anu)

    वाह …यूं ही तप कर ओर निखरती रहो ….

  4. Digvijay Agrawal

    आपकी लिखी रचना बुधवार 30 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी……………
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर आप भी आइएगा ….धन्यवाद!

  5. Gyasu Shaikh

    लाक्षणिक सत्य है कविता में।
    सघन वैचारिक पृष्ठभूमि भी …
    बढ़िया इंदु जी !

  6. प्रवीण पाण्डेय

    जीवन सबको तपाना होता है।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s