Category Archives: मुक्तक

मुक्तक


तेरी साँसों की खुशबू से मेरे अहसास महके हैं,
तेरे लबों की गरमी से दिल के तार दहके हैं .
मै तुझमे हूँ तू मुझमे है ये अहसास है कैसा,
तेरी नज़रों से घायल हो मेरे जज़्बात बहके हैं .

4 टिप्पणियाँ

Filed under मुक्तक