Tag Archives: चाह

आसान नहीं होता


मर जाना सबसे आसान है
लोग कहते हैं
लेकिन  

मरने की
चाह रखना
भले आसान हो
मर जाना

कतई आसान नहीं होता ।
कैसे मरुँ
कि कष्ट भी कम हो
और मर जाऊँ !
ज़रा सोचिये
ये मनःस्थिति
कैसे

मर पाता होगा कोई
वो घुटन वो दर्द

वो तकलीफ़
हर कोई नहीं सह सकता
मर जाना, आसान
कतई नहीं होता ….

3 टिप्पणियाँ

Filed under कविता

चाह बन जाऊॅं


दिल आज बस ये चाहे
कि चाह बन जाऊँ
गर मिल सको तुम
तुम्हें गले लगाऊँ
वेदना है जितनी
सब समेट लाऊँ
आँचल में तुम्हें
कुछ इस तरह छिपाऊँ
दर्द को तुम्हारे मै स्वयं पी जाऊँ
जानती हूँ नीम हूँ मैं
नहीं और कोई
फिर भी तुम्हारे लिए कृष्ण मैं बन जाऊँ……

18 टिप्पणियाँ

Filed under कविता